औरंगाबाद में घूमने के लिए 10 सबसे प्रसिद्ध स्थान

Aurangabad महाराष्ट्र राज्य में स्थित एक ऐतिहासिक शहर है। यह शहर इतिहास, संस्कृति और प्रकृति का एक सुंदर मिश्रण है। इस शहर में कई ऐसे ऐतिहासिक स्थल (Historic Site) मौजूद हैं जिन्हें देखने के लिए भारत के अलावा विदेशों से भी पर्यटक आते हैं। इस आर्टिकल में हम, औरंगाबाद के 10 सबसे प्रसिद्ध स्थानों के बारे में जानेंगे। (Top 10 Tourist Places in Aurangabad in Hindi)

औरंगाबाद का नाम मुगल बादशाह औरंगजेब के नाम पर रखा गया था। Aurangabad city अपने विशाल किलों और ऐतिहासिक स्थलों के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है। यह शहर एक लोकप्रिय पर्यटक केंद्र है।

औरंगाबाद सबसे प्रसिद्ध और खूबसूरत पर्यटन स्थलों में से एक है। इस शहर को ‘गेट्स का शहर’ भी कहा जाता है। औरंगाबाद के प्राचीन और ऐतिहासिक स्मारक बड़ी संख्या में पर्यटकों को आकर्षित करते हैं।

औरंगाबाद के 10 सबसे प्रसिद्ध स्थान – Aurangabad Tourist Places in Hindi 2024

Best places to visit in Aurangabad, Top tourist places in Aurangabad Maharashtra, Aurangabad Tourist places in hindi.

यदि आप घूमने के लिए जाने का प्लान बना रहे हैं तो औरंगाबाद सबसे अच्छा ऑप्शन है लेकिन जाने से पहले आपको पता होना चाहिए कि औरंगाबाद में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगह कौन सी हैं।

1. बीबी का मकबरा (Bibi Ka Maqbara)

Bibi Ka Maqbara aurangabad

बीबी का मकबरा औरंगाबाद का सबसे लोकप्रिय और प्रमुख स्मारक है। अगर आपको ताजमहल पसंद है तो आपको Bibi Ka Maqbara भी जरूर देखना चाहिए। इसकी तुलना अक्सर आगरा के ताज महल से की जाती है।

बीबी का मकबरा औरंगाबाद के बादशाह औरंगजेब ने अपनी बीबी के लिए बनवाया था, इसका निर्माण 1661 में किया गया था। यह औरंगजेब के शासनकाल के दौरान बनी दूसरी सबसे बड़ी संरचना है। इस मकबरा के चारों कोनों पर मीनार हैं और इसे संगमरमर का इस्तेमाल करके बनाया गया है। इसके पत्थरों पर खूबनसूरत डिजाइन भी बनाया गया है।

2. अजंता, एलोरा की गुफाएं (Ajanta Caves)

Ajanta Ellora Caves

अजंता और एलोरा की गुफाएं, औरंगाबाद में सबसे महत्वपूर्ण नामों में से एक है। ये गुफाएं लगभग 6वीं और 7 वीं शताब्दी में बनाई गई थी। Ajanta, Ellora की गुफाएं चट्टानों को काटकर बनाई गई हैं। इन गुफाओं को कई समूहों में विभाजित किया गया है, जो विभिन्न उद्देश्यों के लिए बनाई गई थीं।

इन्हें भारतीय कला का सबसे शानदार रूप माना जाता है। अजंता औ एलोरा की गुफाएं बौद्ध पौराणिक कथाओं और लोककथाओं के दृश्यों को दर्शाती हैं। इनका इस्तेमाल अध्ययन, पूजा और रहने के लिए किया गया था। इन गुफाओं में बौद्ध मूर्तियाँ और पेंटिंग बनाई गई हैं।

3. घृष्णेश्वर मंदिर (Grishneshwar Temple)

Grishneshwar Temple aurangabad

औरंगाबाद में स्थित, घृष्णेश्वर मंदिर भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। इसे घृष्णेश्वर या घुश्मेश्वर मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह ज्योतिर्लिंग भगवान शिव को समर्पित है। इसे हिन्दू भक्तों के द्वारा एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल माना जाता है।

घृष्णेश्वर सबसे छोटा और भारत का अंतिम ज्योतिर्लिंग माना जाता है। यह औरंगाबाद में घूमने के लिए सबसे पवित्र स्थानों में से एक है। यह मंदिर वास्तुकला शैली में बनाया गया है। यह मंदिर अहिल्याबाई होल्कर के द्वारा 18वीं शताब्दी में बनवाया गया था।

4. दौलताबाद किला (Daulatabad Fort)

Daulatabad Fort Aurangabad Maharashtra

दौलताबाद किला औरंगाबाद में स्थित एक ऐतिहासिक गढ़ है। यह एक प्राचीन किला है। इसे देवगिरी किला के नाम से भी जाना जाता है। यह किला महाराष्ट्र के सात अजूबों में से एक है। यह किला एक पहाड़ी के ऊपर बना हुआ है, इसकी ऊंचाई 190 मीटर है।

इस किले का निर्माण 12वीं शताब्दी में किया गया था। इस किले के शीर्ष पर जाने के लिए लगभग 750 सीढ़ियाँ चढ़नी पड़ती हैं। Daulatabad किले के शिखर से पूरे शहर का एक मनमोहक दृश्य देखा जा सकता है। यह किला पूरे भारत से पर्यटकों को आकर्षित करता है।

5. Panchakki Aurangabad (पनचक्की)

Panchakki Aurangabad

औरंगाबाद में बीबी का मकबरा के पास एक बहुत पुरानी पनचक्की (watermill) स्थित है। इसके अंतर्गत एक अदालत, मदरसा, मंत्री का घर, मस्जिद और एक सराय शामिल है। आज यह एक आदर्श पिकनिक स्थल बन चुका है जो Aurangabad के लोकप्रिय (popular) आकर्षणों में से एक है।

इस पनचक्की से लगभग 6 किलोमीटर दूर एक नदी है जो इस संरचना के लिए जल का स्रोत है। नदी से पानी की चक्की तक मिट्टी के पाइपों के माध्यम से पानी पहुंचाया जाता है। औरंगाबाद की मशहूर (famous) पनचक्की का निर्माण 17वीं शताब्दी में बाबा शाह मुसाफिर ने करवाया था। इसमें उनकी कब्र भी मौजूद है।

औरंगाबाद पनचक्की के पास एक 300 साल पुराना पेड़ और 17वीं सदी में बनी मस्जिद भी है। इसका खुलने का समय सुबह 7 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक है।

6. सोनेरी महल (Soneri Mahal)

Soneri Mahal aurangabad

सोनेरी महल सातमाला पर्वत शृंखला के तल पर औरंगाबाद शहर में एक ऐतिहासिक इमारत है। इस इमारत के चारों तरफ पेड़, घास के मैदान और खेत मौजूद हैं जो इसकी सुंदरता को बढ़ाते हैं। इस महल की दीवारों पर असली सोने के पानी से पेंटिंग बनाई गई है इसलिए इस महल को सुनहरी महल कहा जाता है।

इसका निर्माण 17वीं शताब्दी में किया गया था। सुनहरी महल अपनी सुंदरता और ऐतिहासिकता के कारण पूरे देश में लोकप्रिय स्थल। इस महल में पत्थर और संगमरमर पर बहुत खूबसूरत डिजाइन बने हुए हैं। सोनेरी महल का प्रवेश द्वार बहुत बड़ा है। इस महल के दरवाजे को हाथीखाना भी जहा जाता है।

7. औरंगजेब का मकबरा (Tomb of Aurangzeb)

Tomb of Aurangzeb

औरंगजेब का मकबरा महाराष्ट्र राज्य के औरंगाबाद जिला के एक शहर खुल्दाबाद में स्थित है। खुल्दाबाद से लगभग 3 किलोमीटर दूर एलोरा की गुफाएं भी हैं। औरंगजेब सबसे लंबे समय तक शासन करने वाले मुगल सम्राटों में से एक थे। उनकी मृत्यु 1707 में अहमदनगर में हुई थी।

मृत्यु के बाद, उन्हें उनकी इच्छा के अनुसार उनके बेटे आजम शाह के द्वारा खुल्दाबाद ले जाया गया था। औरंगजेब का मकबरा आजम शाह ने बनवाया था। यदि आप औरंगाबाद में घूमने के लिए जा रहे हैं तो औरंगजेब का मकबरा जरूर देखना।

8. छत्रपती शिवाजी संग्रहालय (Chhatrapati Shivaji Museum)

Chhatrapati Shivaji Museum

औरंगाबाद में छत्रपती शिवाजी महाराज का वास्तु संग्रहालय भी स्थित है। छत्रपती शिवाजी महाराज भारत के एक महान राजा थे, जिन्होंने 1674 ईस्वी में मराठा साम्राज्य की नींव रखी। इसके लिए उन्होंने मुगल साम्राज्य के बादशाह औरंगजेब से लड़ाई लड़ी।

इस म्यूजियम को देखने के लिए पूरे भारत से लोग आते हैं। अगर आप औरंगाबाद घूमने के लिए जा रहे हैं तो इस म्यूजियम को जरूर देखना।

बीबी का मकबरा, औरंगजेब का मकबरा, अजंता और एलोरा की गुफाओं के अलावा औरंगाबाद में और भी बहुत सारे प्रसिद्ध और ऐतिहासिक स्थल है जिन्हें देखने के लिए विदेशों से भी पर्यटक आते हैं।

अगर आप कहीं घूमने जाने का मन बना रहे हैं तो आप औरंगाबाद जा सकते हैं। इस आर्टिकल में हमने आपको औरंगाबाद की सबसे लोकप्रिय जगहों, प्रसिद्ध स्थान और ऐतिहासिक स्थलों के बारे में जानकारी दी है।

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो इस आर्टिकल को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

Leave a Comment